असम में चल रहा आतंकवाद का बड़ा खेल, बांग्लादेश से जुड़े तार, सरकार ने कसा शिकंजा

असम में ऐसे कई लोगों को गिरफ्तार किया गया है जो कि आतंकी संगठन के साथ संपर्क में थे और कट्टरपंथ फैलाने में जुटे हुए थे। हाल ही में आतंकियों से संपर्क रखने वाले दो इमामों की गिरफ्तारी के बाद सरकार ने शिकंजा भी कसा है और बाहरी राज्यों से आने वाले इमामों के लिए एसओपी भी जारी की है। अब उन्हें राज्य में आने से पहले अपनी जानकारी एक पोर्टल पर देनी होगी। इसी बीच असम के डीजीपी ने कहा है कि राज्य में कट्टरपंथ से लड़ने के लिए बड़े कदम उठाए जा रहा हैं। अब तक 34 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

डीजीपी ने कहा, हम आतंकियों के मनसूबों को नाकामयाब करने के लिए कई मुस्लिम संगठनों के साथ भी जुड़े हैं और वे हमारी मदद भी करते हैं। असम में बहुत सारे मदरसे चल रहे हैं और कुछ लोग हैं जो कि इनका फायदा उठाते हैं। यह सारी साजिश असम के बाहर से ही की जा रही है। बांग्लादेश से भी आतंक के तार जुड़े हुए हैं।, अलकायदा से कुछ लोग यहां कट्टरपंथ फैलाने की कोशिश करते हैं। अतब तक 34 से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है और ऐसी कोई भी साजिश कामयाब नहीं हो पाई है।

असम में बीते 20 अगस्त को गोआलपाड़ा में दो इमामों को पकड़ा गया था। ये दोनों ही युवाओं को भटकाने की कोशिश कर रहे थे। इसके अलावा अलकायदा से उनके संपर्क होने का भी पता चला। इनमें से एक बांग्लादेश के एक आतंकी संगठन के साथ संपर्क में था। वे दोनों ही पुलिस की हिरासत में हैं। इसी के बाद सरकार ने सख्ती दिखायी और दूसरे राज्यों से आने वाले इमामों के लिए पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन अनिवार्य कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.