‘चीन से आजादी नहीं मांग रहा हूं’, जम्मू पहुंचे दलाई लामा का चीनी कट्टरपंथियों पर हमला

जम्मू दौरे पर पहुंचे तिब्बत के आध्यात्मिक नेता दलाई लामा ने कहा कि वे चीन से आजादी नहीं बल्कि उसके अंदर ही तिब्बत के लिए स्वायत्तता की मांग रहे हैं। हाल ही में अपना 87वां जन्मदिन मनाने वाले दलाई लामा ने कहा कि कुछ चीनी लोग उन्हें अलगाववादी मानते हैं। दलाई लामा ने कहा, “कुछ चीनी कट्टरपंथी मुझे अलगाववादी और प्रतिक्रियावादी मानते हैं, इसलिए हमेशा मेरी आलोचना करते हैं। लेकिन अब अधिक से अधिक चीनियों ने महसूस किया है कि दलाई लामा स्वतंत्रता की मांग नहीं कर रहे हैं, बल्कि चीन के अंदर ही सार्थक स्वायत्तता और तिब्बती बौद्ध संस्कृति का संरक्षण चाहते हैं।”
तिब्बती आध्यात्मिक गुरु ने आगे कहा कि अधिक से अधिक चीनी तिब्बती बौद्ध धर्म के बारे में रुचि दिखा रहे हैं। उन्होंने कहा, “कुछ चीनी विद्वानों ने महसूस किया है कि तिब्बती बौद्ध धर्म वास्तव में ज्ञान और परंपरा से भरा है और एक बहुत ही वैज्ञानिक धर्म है।” 2018 में, दलाई लामा ने वाशिंगटन डीसी स्थित इंटरनेशनल कैंपेन फॉर तिब्बत (ICT) को एक वीडियो संदेश में कहा था कि वे 1974 के बाद से चीन से स्वतंत्रता की मांग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि अगर सुलह हो जाए तो चीन और तिब्बत को पारस्परिक लाभ हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.