नीतीश कुमार को बताया है कि शराबबंदी फेल है, वापस लिया जाए: प्रशांत किशोर

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात के बाद कयास लगाए जाने लगे कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर फिर से जद (यू) के साथ आ सकते हैं। हालांकि इस मुलाकात के दो दिन बाद, पीके ने गुरुवार को स्पष्ट किया कि वह 2 अक्टूबर से बिहार में अपने ‘जन सुराज आंदोलन’ के तहत पदयात्रा के लिए प्रतिबद्ध हैं। प्रशांत किशोर जद (यू) के पूर्व पदाधिकारी रह चुके हैं। उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार के साथ उनकी मुलाकात को “सामाजिक-राजनीतिक शिष्टाचार मुलाकात के रूप में देखा जाना चाहिए।” उन्होंने कहा कि बिहार सीएम के साथ बातचीत के दौरान उन्होंने राज्य में शराबबंदी पर अपना विचार रखा क्योंकि ‘यह स्पष्ट रूप से जमीन पर प्रभावी नहीं है।’

मीडिया से बात करते हुए पीके ने कहा, “नीतीश कुमार बिहार के सीएम हैं और मैं मई से बिहार में सक्रिय हूं। काफी समय से उनसे व्यक्तिगत रूप से मिलना चाहता था लेकिन समय की कमी के कारण यह बैठक नहीं हो सकी।” बिहार में जन सुराज अभियान के तहत प्रशांत किशोर 2 अक्टूबर 2022 से पदयात्रा के लिए पूरी तरह तैयार हैं। उन्होंने कहा, “मैं जन सुराज के विजन के साथ मजबूती से खड़ा हूं और 2 अक्टूबर से प्रस्तावित पदयात्रा के माध्यम से पूरे बिहार की यात्रा करूंगा। मैं लगभग एक साल तक बिहार के विभिन्न गांवों और ब्लॉकों में जाऊंगा और लोगों से मिलूंगा और समाज से सही लोगों को आगे लाऊंगा जो बिहार की बेहतरी के लिए काम कर सके।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.