यूपी पुलिस का सिपाही बना इतिहास का प्रोफेसर, 2015 में आरक्षी पद पर हुए थे भर्ती

इटावा के चंबल इलाके के बिठौली पुलिस थाने में तैनात यूपी पुलिस के एक सिपाही के अपनी लगन मेहनत के बल पर प्रोफेसर बनने का सफर तय कर लिया है। सिपाही से प्रोफेसर बनने की कहानी सुनने के बाद आला पुलिस अफसर बेहद खुश नजर आ रहे है। मूल रूप से एटा का रहने वाला सिपाही योगेश कुमार साल 2015 मे पुलिस सेवा मे आया था उसके बाद से लगातार उसकी कोशिश शिक्षा जगत में आने की रही लेकिन असल कामयाबी इस साल मिल सकी है।

योगेश को अलीगढ़ के वार्ष्णेय महाविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर का पद मिला है जिसको लेकर वो एसएसपी जयप्रकाश सिंह से मिल कर पुलिस सेवा से इस्तीफा देने के लिए आया था जहॉ पर एसएसपी ने मिठाई खिलाकर खुशी का इजहार किया। योगेश को कमशीन से अलीगढ़ के वाष्णेय महाविद्यालय में असिस्टेंट प्रोफेसर का पद मिला है। सिपाही योगेश कुमार ने इटावा के एसएसपी से मिलकर पुलिस सेवा से त्याग पत्र देने के बाद अलीगढ़ मे सहायक प्रोफेसर के पद को ज्वाइन भी कर लिया है।

एसएसपी जयप्रकाश सिंह ने बताया कि अब पुलिस भर्ती में ऐसे युवा आ रहे हैं जो ड्यूटी के साथ निरंतर कंपटीशन की तैयारी करते रहते हैं। ऐसे युवा आरक्षियों को हम लोग बराबर सहयोग करते हैं और उनको ऐसे थानों में तैनाती दी जाती है जहां उनपर अधिक वर्कलोड नहीं पड़ता है। इटावा के बीहडी पुलिस थाना बिठौली में तैनात एटा के निधौली कलां के ग्राम रसीदपुर के योगेश कुमार 2015 बैच में पुलिस विभाग मे आरक्षी पद पर भर्ती हुए थे। इससे पहले उन्होंने 2013 में आगरा कालेज से इतिहास विषय में परास्नातक पास किया थ। शिक्षक बनने का ख्वाब देखने वाले योगेश ने 2013 में नेट के परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी। उन्होंने 2015 जून में नेट परीक्षा भी उत्तीर्ण कर ली लेकिन इसी बीच उत्तर प्रदेश पुलिस में आरक्षी पद की भर्ती निकल आई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.