योगी सरकार के नेतृत्व में अपने लक्ष्य के करीब पहुंचा अमृत मिशन,

उत्तर प्रदेश के शहरों और कस्बों में बुनियादी सुधार और सुविधाएँ पहुंचे के लिए शुरू की गई अमृत योजना को युद्धस्तर पर लागू किया जा रहा है। इसके सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहा है। राज्य में स्वीकृत कुल 279 प्रोजेक्ट्स में से 211 को पूरा कर लिया गया है। पूरे हुए इन प्रोजेक्ट्स की कुल लागत 5288.29 करोड़ रुपये है। वहीं 68 प्रोजेक्ट्स पर अभी काम चल रहा है। जिसमें से 43 प्रोजेक्ट्स को आगामी 6 महीने में पूरा किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी ने जून 2015 में अमृत मिशन का शुभारंभ किया था। पीएम मोदी की मंशा के अनुरूप सीएम योगी ने मिशन मोड में इस योजना को उत्तर प्रदेश में शुरू किया है।
वाटर सप्लाई के 140 प्रोजेक्ट पूरे
मुख्य सचिव डीएस मिश्रा के समक्ष अमृत मिशन को लेकर हुई समीक्षा बैठक में कार्य की प्रगति का पूरा खाका रखा गया। इसके अनुसार जो 211 प्रोजेक्ट पूर्ण हुए हैं, उनमें सबसे ज्यादा 140 प्रोजेक्ट्स वाटर सप्लाई से जुड़े हैं। इनकी कुल लागत 2034.16 करोड़ रुपए है। इसके अलावा सीवरेज से जुड़े 3254.13 करोड़ के 71 प्रोजेक्ट्स भी पूरे किए जा चुके हैं। जिन 43 प्रोजेक्ट्स को अगले 6 माह में पूर्ण किए जाने का लक्ष्य रखा गया है उनमें 24 वाटर सप्लाई, 16 सीवरेज और 3 सेप्टेज से जुड़े हैं।
गाजियाबाद, लखनऊ मंडल सबसे अधिक पूरे हुए प्रोजोक्ट्स

वाटर सप्लाई और सीवरेज स्कीम से जुड़े 211 प्रोजेक्ट्स पूरे हो चुके हैं तो 12 प्रोजेक्ट्स ऐसे हैं जिनमें 90 प्रतिशत से अधिक कार्य हो चुका है। वहीं, 23 प्रतिशत स्कीम्स ऐसी हैं जिनका 75 प्रतिशत से अधिक कार्य पूरा हो चुका है तो 16 स्कीम्स में 50 प्रतिशत से अधिक कार्य हुआ है। 12 स्कीम्स में 25 प्रतिशत से अधिक तो 5 स्कीम्स में 25 प्रतिशत से कम काम हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.