साक्षात्कार

भारत के लिए यूनिवर्सल बेसिक इनकम नहीं, वोटरशिप स्कीम जरूरी है!- विशात्मा (भरत गांधी)

2019-10-09 00:00:00

 

                                                                                                 साभार: चौथी  दुनिया प्रस्तुति - प्रदीप कुमार 

 

Read More

महिला जागरण के लिए पूर्णतया समर्पित प्रसिद्ध समाजसेविका श्रीमती रचना पाल

2017-10-23 11:06:00

 

प्रस्तुति - प्रदीप कुमार सिंह
अपने पास रखो अपने सूरजों का हिसाब,
मुझे तो आखिरी घर तक दीया जलाना है।
श्रीमती रचना पाल का जन्म 7 जुलाई 1960 को लखनऊ में हुआ। आपके पिता स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं विख्यात पत्रकार स्व.

 

Read More

‘‘मोदी इफैक्ट- मिलने लगी गुलदस्ते की जगह पुस्तकें’

2017-10-03 13:00:00

 

विकासशील जीवन के लिए पुस्तकों का साथ होना आवश्यक है, अनिवार्य है, क्योंकि पुस्तकों में उसे जीवन का मार्ग दर्शक प्रकाश स्रोत मिलता है। वस्तुतः संसार के सभी भीषण सागर में डूबते उतराते मनुष्य के लिए पुस्तकें उस प्रकाश स

 

Read More

एक बूंद जो बन गई मोती

2017-09-25 15:48:00

 

हमारे देश का विकास गांवों के विकास से सीधे सीधे जुड़ा है महात्मा गांधी ने कहा था कि भारत गांवों का देश है यदि गांवों की काया पलट दी जाए तो समूचे राष्ट्र का विकास संभव हो सकता है वास्तव में गांवों की खुशहाली में ही देश की ख

 

Read More

उन्हे पानी पिलाता हूूँ जिन्हें लोग दुत्कारते हैं

2017-07-18 17:52:00

 

- ओकारनाथ कथारिया
मैं 2012 से दिल्ली की सड़कों पर आॅटो चला रहा हूं। शुरू से गर्मी के दिनों में, खासकर जब तेज लू चल रही होती है, तब सड़कों पर आॅटो चलाना मेरे लिए काफी कठिन होता था। मैंने देखा, इस मौसम में कई आॅटो वाले पेड़ों की घ

 

Read More

लड़का हो या लड़की मकसद होता है हराना

2017-07-16 21:22:00

 

जीना इसी का नाम है
- जमुना बोडो: महिला बाॅक्सर
असम के शोणितपुर जिले में छोटा सा गांव है बेलसिरि। यह ब्रह्नमपुत्र नदी के किनारे बसा आदिवासी इलाका है। घने जंगलों व प्राकृतिक नजारों से भरपूर इस इलाके में रोजगार के नाम

 

Read More

शहर-शहर जंगल का सफर

2017-07-06 17:53:00

 

- शुभेंदू शर्मा
जैसे-जैसे विकास हो रहा है, हरियाली और जंगल खत्म होते जा रहे हैं। इसका असर पर्यावरण पर भी दिखने लगा है। इसके बावजूद हम पेड़-पौधों को लेकर जागरूक नहीं हो रहे हैं। कुछ लोग पेड़-पौधे लगाने की बात तो करते हैं, त

 

Read More

मुझे बस चलते जाना है......

2017-07-05 17:32:00

 

पर्यावरण और जीवन का अनोखा संबंध है आज के समय में पर्यावरण का ध्यान रखना हर किसी की जिम्मेदारी और अधिकार होना चाहिए , विशेषकर आने वाली पीढ़ियों के लिए पर्यावरण संरक्षण बहुत जरूरी है ।पर्यावरण संरक्षण और जल वायु परिवर्त

 

Read More

नौकरी छोड़कर खेती करने का जोखिम काम आया - अभिषेक सिंहानिया

2017-07-02 17:52:00

 

मैं कोलकाता का रहने वाला हूं और मेरे पिता उद्योगपति है। आईआईटी मद्रास से ग्रेजुएशन करने के बाद मुझे मुंबई में प्राइसवाटरहाउस कूपर्स में नौकरी मिल गई। लेकिन बचपन से ही किसानों का मैं काफी सम्मान करता था, इसलिए उनको हो

 

Read More

काश, मेरे मुल्क में भी शांति होती

2017-06-28 12:14:00

 

- मुजून अलमेलहन, यूएन की गुडविल अंबेसडर
मुजून सीरिया के शहर डारा में पली-पढ़ीं। पापा स्कूल टीचर थे। उन्होंने अपने चारों बच्चों (दो बेटे और दो बेटियों) की पढ़ाई को सबसे ज्यादा तवज्जो दी। सब कुछ ठीक चल रहा था कि अचानक देश म

 

Read More

कस्बे की लड़की से नदिया एक्सप्रेस तक

2017-06-28 12:12:00

 

- झूलन गोस्वामी, महिला क्रिकेटर
वह अपने इलाके की सबसे लंबी लड़की थीं। सड़क पर चलतीं, तो लोग पीछे मुड़कर जरूर देखते। पश्चिम बंगाल के नदिया जिले के छोटे से कस्बे चकदा में पली-बढ़ीं झूलन को बचपन में क्रिकेट का बुखार कुछ यंू च

 

Read More

एवरेस्ट की सबसे यंग विजेता

2017-06-26 11:52:00

 

पूर्णा मलवथ एक बार फिर चर्चा में हैं। कारण वे उन सबसे यंग लोगों में हैं जिनपर बायोपिक बनी है। पूर्णा नाम से फिल्म रिलीज हो चुकी है। दरअसल पूर्णा वेमिसाल व्यक्तित्व की है। वे आदिवासी परिवार से आती हैं। उनके माता-पिता ख

 

Read More

हर कदम चलो ऐसे कि निशान बन जाए....

2017-06-20 19:55:00

 

डर मुझे भी लगता है फांसला देख कर
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर
खुद ब खुद मेरे नजदीक आती गई
मेरी मंजिल मेरा हौंसला देख कर
समाज में हमें सामाजिक जीवन की उच्चतम अभिव्यक्ति का जितना अधिक मानवीय और संवेदनशील रूप प्र

 

Read More