हिजाब विवाद में अब नया लॉजिक, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भी तो सिर पर पल्लू रखती हैं

कर्नाटक में हिजाब बैन पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। इस बीच जनता दल (एस) के कर्नाटक प्रमुख सीएम इब्राहिम ने मंगलवार को एक नया लॉजिक पेश कर दिया। उन्होंने इस्लामी हिजाब की तुलना साड़ी के पल्लू से कर डाली। इब्राहिम ने यहां तक कह दिया कि राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू भी तो अपने सिर को पल्लू से ढंकती हैं। क्या यह भी पीएफआई की साजिश है?इब्राहिम उस आरोप का जवाब दे रहे थे, जिसके मुताबिक कर्नाटक में हिजाब विवाद को लेकर चल रहे विरोध प्रदर्शनों के पीछे पीएफआई है। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी अपने सिर पर पल्लू रखती थीं। राष्ट्रपति अपने सिर पर पल्लू रखती हैं। तो क्या वह सभी जो घूंघट रखती हैं, उन्हें पीएफआई का समर्थन हासिल है? जेडीएस के कर्नाटक प्रमुख ने कहा कि पल्लू से अपना सिर ढंकना भारत का इतिहास है। यह भारत का संस्कार है। गौरतलब है कि कर्नाटक सरकार ने आज कोर्ट में जवाब देते हुए कहा कि हिजाब को लेकर हुए विरोधों के पीछे पीएफआई थी। इसमें यह भी दावा किया गया कि 2021 तक स्कूलों में हिजाब नहीं पहने जाते थे। कर्नाटक सरकार के 5 फरवरी, 2022 को जारी आदेश में स्कूल और कॉलेजों में हिजाब पहनने पर रोक लगा दी गई थी। इसके मुताबिक ऐसे पहनावे से समानता, एकता और जनमानस में अशांति फैल सकती है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published.